28
Comment
Share
2
Comment
Share
3
Comment
Share
0
Comment
Share

#ManchGuru

*जाति औरत की*.??? एक आदमी ने महिला से पूछा ... तेरी जाति क्या है? महिला ने पूछा ... *एक मां की या एक महिला की* ..? उसने कहा ....चल दोनों की बता .. *और मुस्कान बिखेरी* *महिला ने भी पूरे धैर्य से बताया*....... *एक महिला जब माँ बनती है तो वो जाति विहीन हो जाती है*.. उसने फिर आश्चर्य चकित होकर पूछा ....वो कैसे..? जबाब मिला कि ..... जब एक मां अपने बच्चे का लालन पालन करती है,अपने बच्चे की गंदगी साफ करती है , तो वो *शूद्र* हो जाती है.. वो ही बच्चा बड़ा होता है तो मां बाहरी नकारात्मक ताकतों से उसकी रक्षा करती है, तो वो *क्षत्रिय* हो जाती है.. जब बच्चा और बड़ा होता है, तो मां उसे शिक्षित करती है, तब वो *ब्राह्मण* हो जाती है.. और अंत में जब बच्चा और बड़ा होता है तो मां उसके आय और व्यय में उसका उचित मार्गदर्शन कर अपना *वैश्य* धर्म निभाती है ..तो हुई ना एक महिला या मां जाति विहीन.. उत्तर सुनकर वो अवाक् रह गया । उसकी आँखों में महिलाओं या माताओं के लिए सम्मान व आदर का भाव था और महिला को अपने मां और महिला होने पर पर गर्व का अनुभव हो रहा था। *जिन्दगी दो पल की*_❣खुश रहिये मुस्कुराते रहिये* !! 🙏🏻🙏🏻🙏🏻 #ManchGuru

2
1
Share

#मूषक #मूषक #ManchGuru

हम अपने देश में 'डिजिटल इंडिया' पर काम कर रहे हैं और उसपर गर्व कर रहे हैं। गर्व करना भी चाहिए। पर 'डिजिटल इंडिया' पर हम कहां तक काम किये हैं? यदि गौर करेगें तो अभी हम 'डिजिटली साक्षरता' में काफी पीछे हैं। 'पब्लिक फ्रेंडली' संसाधानों की भारी कमी है। हमारा खुद का कोई ऐसा एप्‍प नहीं है, जो कई लोगों से जुड़ी हो। 'दैनिक भास्‍कर' समूह द्वारा वीडीयो आधारित एप्‍प 'फर्स्‍ट वाल' प्रारम्‍भ किया भी गया है तो उतनी लोकप्रियता उन्‍हें नहीं मिल रही है, जितनी कि अन्‍य विदेशी 'एप्‍पस' की है। युट्युब, फेसबुक, ट्विटर जैसेी अमेरिका कंपनी की एप्‍प पूरी दुनियां में तहलका मचाने के साथ-साथ भारत में ही काफी लोगों द्वारा प्रयोग किया जा रहा है। ट्विटर सरीखे एप्‍प भारत में #मूषक प्रारंभ की गई, उसमें लिखने की सीमा 500 शब्‍द रहने के बावजूद भी लोग उनकी तरफ आकर्षित नहीं हो रहे हैं। मेरे जैसे लोग स्‍वदेशी अभियान को बढ़ावा देने के लिए लोगों को #मूषक अपनाने की अपील भी किये तो उन पर इसका असर नहीं के बराबर पड़ा। लोग क्‍यों अपनायेंगें? लोग उस 'एप्‍प' की ओर अधिक भाग रहे हैं, जो कम से कम समय में ज्‍यादा आनंद पैदा करे। 'कोरा' जैसी एप्‍प भारत की 'ज्ञान एप्‍प' को कितने लोग जानते हैं, पता नहीं ? अमेरिकी कंपनियों के बाद चायनीज कंपनियों की एप्‍प अधिकांश लोगों के र्स्‍माट फोन में मौजूद रहता है। 'यू सी ब्राउजर' के बारे में तमाम तरह के अगाह करने पर भी लोग 'यू सी ब्राउजर' से प्रेम करना नहीं छोड़े हैं। 'ट्र कॉलर' को तो मैं अधिकांश लोगों के मोबाईल में देखता हूँ। शायद ही कोई व्‍यक्ति होगा, जिसके मोबाईल में ये दोनों एप्‍प नहीं होगा। सरकार द्वारा 42 चाइनीज एप्‍प Weibo, WeChat, SHAREit, Truecaller, UC News, UC Browser, BeautyPlus, NewsDog, VivaVideo- QU Video Inc, Parallel Space, APUS Browser, Perfect Corp, Virus Cleaner (Hi Security Lab), CM Browser, Mi Community, DU recorder, Vault-Hide, YouCam Makeup, Mi Store, CacheClear DU apps studio, DU Battery Saver, DU Cleaner, DU Privacy, 360 Security, DU Browser, Clean Master – Cheetah Mobile, Baidu Translate, Baidu Map, Wonder Camera, ES File Explorer, Photo Wonder, QQ International, QQ Music, QQ Mail, QQ Player, QQ NewsFeed, WeSync, QQ Security Centre, SelfieCity, Mail Master, Mi Video call-Xiaomi, and QQ Launcher के बारे में अगाह किया गया है और खतरनाक बताया गया है, पर हम इसे प्रयोग करने से बाज नहीं आते हैं। हम इसके नशे के आदि हो चुके हैं। चायनीज एप्‍प 'टिकटॉक', 'बिगो-लाइव, शेयर चैट लोगों के सबसे पसंद की एप्‍प बनकर उभ रहा है। इन एप्‍प के माध्‍यम से घर-घर की जानकारी संरक्षित हो रहा है। vMate एप्‍प तो और अधिक लोकप्रिय हो रहा है। 15 सेकेंड का वीडियो बनाकर डालने के आदि हो गये हैें। कहा जाता है इनसे आमदनी भी होता है, पर मुझे इसके बारे में विशेष पता नहीं है कि आमदनी होती है भी कि नहीं ...। हालांकि इन एप्‍प के माध्‍यम से कई कलाकार, लेखक भी जन्‍म ले रहे हैं। पर उससे अधिक तो इनके माध्‍यम से भारतीयों को निकम्‍मा बनाया जा रहा है। डिजिटली इंडिया के नारों के बीच विदेशी कंपनियेां द्वारा एप्‍प के माध्‍यम से डिजिटली नशेडि़यों की भीड़ से सब अनजान हैंं। हाल ही में यूट्यूब के सीईओ को संसद की एक स्‍थायी समिति ने सुनवाई हेतु बुलाया पर, उसने ठेंगा दिखा दिया है। 7 तारीख को पहली तिथि तय की गई थी, उसके बाद 11 तय की गई, अब 25 फरवरी तय की गई है। उक्‍त तिथि को भी वे स्‍थायी समिति के समक्ष उपस्थित होते हैं कि नहीं कोई पता नहीं है ? हम अपने देश का एप्‍प उपयोग करेंगें तो देश समृद्ध होगी। निजी जानकारियों के दुरूपयोग का भय नहीं रहेगा। भारतीय कंपनियां राष्‍ट्र की गरिमा और मजबूती के लिए काम करे्गें। पर विदेशी कंपनियेां का एकमात्र उद्देश्‍य लाभ कमाना और श्रम शक्ति को कमजोर बनाना ही है। #ManchGuru

0
Comment
Share
0
Comment
Share

#ManchGuru

*कैलाश पर्वत एक अनसुलझा रहस्य, कैलाश पर्वत के इन 8 रहस्यों से नासा भी हो चुका है हैरान!!* कैलाश पर्वत के रहस्य - कैलाश पर्वत, यह एतिहासिक पर्वत को आज तक हम सनातनी भारतीय लोग *शिव का निवास स्थान* मानते हैं। शास्त्रों में भी यही लिखा है कि कैलाश पर शिव का वास है। किन्तु वहीँ नासा जैसी वैज्ञानिक संस्था के लिए कैलाश एक रहस्यमयी जगह है। नासा के साथ-साथ कई रूसी वैज्ञानिकों ने कैलाश पर्वत पर अपनी रिपोर्ट पेश की है। उन सभी का मानना है कि कैलाश वाकई कई अलौकिक शक्तियों का केंद्र है। विज्ञान यह दावा तो नहीं करता है कि यहाँ शिव देखे गये हैं किन्तु यह सभी मानते हैं कि, यहाँ पर कई पवित्र शक्तियां जरुर काम कर रही हैं। तो आइये आज हम आपको कैलाश पर्वत से जुड़े हुए कुछ रहस्य बताते हैं। *कैलाश पर्वत के रहस्य* *रहस्य 1*– रूस के वैज्ञानिको का ऐसा मानना है कि, कैलाश पर्वत आकाश और धरती के साथ इस तरह से केंद्र में है जहाँ पर *चारों दिशाएँ* मिल रही हैं। वहीँ रूसी विज्ञान का दावा है कि यह स्थान एक्सिस मुंडी है और इसी स्थान पर व्यक्ति अलौकिक शक्तियों से आसानी से संपर्क कर सकता है। धरती पर यह स्थान सबसे अधिक *शक्तिशाली स्थान* है। *रहस्य 2* - दावा किया जाता है कि आज तक कोई भी व्यक्ति *कैलाश पर्वत के शिखर पर नहीं पहुच पाया है।* वहीँ 11 सदी में तिब्बत के योगी मिलारेपी के यहाँ जाने का दावा किया जाता रहा है। किन्तु इस योगी के पास इस बात के सबूत नहीं थे या फिर वह खुद सबूत पेश नहीं करना चाहता था। इसलिए यह भी एक रहस्य है कि इन्होनें यहाँ कदम रखा या फिर वह कुछ बताना नहीं चाहते थे। *रहस्य 3* - कैलाश पर्वत पर दो झीलें हैं और यह दोनों ही रहस्य बनी हुई हैं। आज तक इनका भी रहस्य कोई खोज नहीं पाया है। *एक झील साफ़ और पवित्र जल की है।* इसका आकार *सूर्य के समान* बताया गया है। वहीँ *दूसरी झील अपवित्र और गंदे जल की है* तो इसका आकार *चन्द्रमा* के समान है। ऐसा कैसे हुआ है यह भी कोई नहीं जानता है। *रहस्य 4* - यहाँ के आध्यात्मिक और शास्त्रों के अनुसार रहस्य की बात करें तो कैलाश पर्वत पे कोई भी व्यक्ति *शरीर के साथ उच्चतम शिखर पर नहीं पहुच सकता है।* ऐसा बताया गया है कि, यहाँ पर *देवताओं का आज भी निवास हैं।* पवित्र संतों की आत्माओं को ही यहाँ निवास करने का अधिकार दिया गया है। *रहस्य 5* - कैलाश पर्वत का एक रहस्य यह भी बताया जाता है कि जब कैलाश पर *बर्फ पिघलती* है तो यहाँ से *डमरू* जैसी आवाज आती है। इसे कई लोगों ने सुना है। लेकिन इस रहस्य को आज तक कोई हल नहीं कर पाया है। *रहस्य 6* – कई बार कैलाश पर्वत पर *सात तरह के प्रकाश* आसमान में देखें गयें है। इसपर नासा का ऐसा मानना है कि यहाँ चुम्बकीय बल है और आसमान से मिलकर वह कई बार इस तरह की चीजों का निर्माण करता है। *रहस्य 7* - कैलाश पर्वत दुनिया के *4 मुख्य धर्म का केंद्र* माना गया है। यहाँ कई साधू और संत अपने देवों से टेलीपेथी से संपर्क करते हैं। असल में यह आध्यात्मिक संपर्क होता है। *रहस्य 8* - कैलाश पर्वत का सबसे बड़ा रहस्य खुद विज्ञान ने साबित किया है कि यहाँ पर *प्रकाश और ध्वनी* के बीच इस तरह का समागम होता है कि यहाँ से *ॐ* की आवाजें सुनाई देती हैं। अब आप समझ गये होंगे कि, कैलाश पर्वत क्यों आज भी इतना धार्मिक और वैज्ञानिक महत्त्व रखे हुए है। हर साल यहाँ दुनियाभर से कई लोग अनुभव लेने आते हैं, और सनातन धर्म के लिए कैलाश सबसे बड़ा *आदिकालीन धार्मिक स्थल* भी बना हुआ है। *🚩 ॐ नमः शिवाय 🔱* _जनजागृति हेतु लेख को पढ़ने के बाद साझा अवश्य करें...!!_ *जय श्री राम ⛳⛳* *वंदेमातरम् ⛳⛳* ⚜🕉⛳🕉⚜ #ManchGuru

2
Comment
Share

धूम्रपान आज ही छोडो‌। #ManchGuru

23
1
Share